हिंदी प्रेम कविताएं-Cute Love Poems in Hindi

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email

Love Poems : प्यार एक एहसास के साथ-साथ Love’s Philosophy भी है। जिसे केवल महसूस किया जा सकता है जो कि दिल से नहीं दिमाग जरिये होता है। यह एक ऐसी क्रिया है जब कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति की ओर भावनात्मक या धार्मिक प्रकार से आकर्षित होता है तो वह प्रेम कहलाता है एवं वह Love of God भी हो सकता है। सभी जानते है कि प्यार को समझना इतना आसान भी नहीं है।

Read more at: https://hindijaankaari.in/love-poems-in-hindi/

प्रेम कविताएँ

 प्यार एक एहसास के साथ-साथ Love’s Philosophy भी है। जिसे केवल महसूस किया जा सकता है जो कि दिल से नहीं दिमाग जरिये होता है। यह एक ऐसी क्रिया है जब कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति की ओर भावनात्मक प्रकार से आकर्षित होता है तो वह प्रेम कहलाता है।इसलिए हम आज आपके hindi poems प्रस्तुत कर रहे है।इस आर्टिकल में आपके लिए कुछ love poems लिखी है जो शायद आपको पसंद आएगी|

love  poems hindi

                                                                                            Download

हाँ, मेरी कोशिश है तेरे बिन खुश रहने की
पर सारी उम्मीदे न जाने क्यों उदास है
नही रखना चाहता इश्तियाक तेरी फिर भी
फिर भी,
कभी जिनमे थे कुछ साँझे ख्वाब हमारे
आज उन आँखों को तेरी प्यास है
कुछ कहने की कुछ सुनने की
तेरे साथ कुछ सपने बुनने की
आज भी कम्बख़्त दिल को आस है
आस है कमबख्त़ को कि ये आज भी तेरे लिए खास है
खुली आँखों से टटोलता है राह तेरे आने के
तो सपनो में भी तेरी ही तलाश है
लाख देता हूं गवाहियां बेपरवाहियो की तेरी
फिर भी न जाने क्यों झूठा सा विश्वास है
है कुछ जज्बात जो ना बयाँ ही पाए है ना हो पाएंगे
बस अब उनको अल्फाज़ो का है अशफ़ाक़ है|

                                                                                    Download

जो बात आंखों से कहते हो वो होठों से कह दो

नाहो सके तो तुम भी इस हां में हां भर दो ना .. !!

तुम राह जो बदलकर मेरी राह तकती हो ,

उन किताबों के जरिये रोज अपलक देखा करती हो

बातें सब प्यार की आंखों में छिपे राज की होठों पर रख दो

हो सके तो तुम भी इस हां में हां भर दो ना .. !!

हमारी दूरी में तुम्हारे एहसास की सोने से पहले बात की

बिना वजह मुलाकात की दोस्तों में मेरी ही बात की

क्यों जरूरी है तुम्हें मेरे साथ की बस तुम इतना कह दो ना

हो सके तो तुम भी इस हां में हां भर दो ना .. !!

सड़क पर चलते चलते जो हाथ पकड़ लेती हो,

दूर कही गाड़ी दिखे तो मेरा स्थान बदल लेती हो

क्यों करती हो परवाह मेरी इसका हिसाब कर दो ना

हो सके तो तुम भी इस हां में हां भर दो ना .. !!

मैं मैं नही तुम हो जाऊँ नदी से समुद्र हो जाऊँ ,

तेरे आंगन की जमी हो जाऊँ तेरे रंग से मैं पूरा हो जाऊँ

हो जाऊँ तुम्हारा रांझा तुम खुद को हीर कह दो ना

हो सके तो तुम भी इस हां में हां भर दो ना .. !!

उम्मीद है आपको poems पसन्द आई होगी ।आपके लिए और भी बेहतरीन poems lines quotes लाने की कोशिस रहेगी। पसन्द आये तो comment और share जरूर करे।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *