मुख्यमंत्री कन्यादान योजना 2022 आवेदन

कन्यादान योजना 2022

यह सरकार की एक कन्या विवाह योजना है इसके तहत सरकार सही उम्र मैं लड़की का विवाह करने पर सहायता राशि प्रदान करती है

इस योजना के अंतर्गत विवाहित दंपत्ति में दोनों दिव्यांग होने पर सरकार द्वारा 51000 रुपये की सहायता राशी प्रदान की जाएगी. यदि एक विकलांग है तो 31000 रुपये प्रदान किये जायेंगे. योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए दिव्यांगता 40% या इससे अधिक होनी चाहिए.

राज्य के गरीब परिवार की बेटियों को सहायता देने के लिए कन्यादान योजना को शुरू किया है। इस योजना के तहत अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग की बेटियों की शादी के लिए राशि के रूप में सहयता प्रदान की जाएगी जिसके माध्यम से उन सभी को अपनी बेटी की शादी के लिए किसी और के आगे पैसो के लिए हाथ नहीं फैलाने होंगे।

राज्य के सभी आर्थिक रूप से कमजोर, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, विधवा तथा विकलांगों की शादी पर सरकार के माध्यम से 51000 रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है, यदि आप इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो हमारे द्वारा प्रदान की गई आवेदन प्रक्रिया को फॉलो करके उठा सकते हैं।

Rajasthan Mukhyamantri Kanyadan Yojana 2022

राजस्थान मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का शुभारंभ राजस्थान सरकार द्वारा किया गया है।

इस योजना के माध्यम से बीपीएल परिवार की कन्याओं, अंत्योदय परिवार की कन्याओं, आस्था कार्ड धारी परिवार की कन्या तथा आर्थिक दृष्टि से ऐसे परिवार जिसमें कोई कमाने वाला व्यक्ति नहीं है एवं विधवा महिलाओं की कन्याओं को विवाह के लिए सहायता राशि प्रदान की जाएगी।

यह आर्थिक सहायता ₹31000 रुपए से लेकर ₹41000 रुपए तक की होगी। प्रत्येक परिवार की केवल दो कन्याएं ही इस योजना का लाभ प्राप्त करने की पात्र है। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए कन्या की आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।

इस योजना के कार्यान्वयन की समीक्षा जिला स्तर पर की जाएगी। जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में मॉनिटरिंग समिति गठित की जाएगी।

इस मॉनिटरिंग समिति के माध्यम से संपूर्ण जिले में Rajasthan Mukhyamantri Kanyadan Yojana 2022 का कार्यान्वयन किया जाएगा। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए एक निर्धारित प्रपत्र में आवेदन पत्र जमा करना होगा। यह आवेदन विवाह की तिथि से 1 माह पूर्व या फिर विवाह की तिथि के 6 माह पश्चात जिलाधिकारी को प्रस्तुत करना होगा।

शादी शगुन योजना

इस योजना का शुभारंभ “अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग” सरकार द्वारा किया गया है। विवाह शगुन योजना में अनुसूचित जाति / जनजाति व गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले वर्ग के साथ-साथ विधवाओं की लड़कियों को भी लाभ प्रदान किया जायेगा।

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी अपनी बेटी की शादी के लिए इस शादी शगुन योजना के तहत सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्राप्त करना चाहते है तो उन्हें सबसे पहले इस योजना के तहत आवेदन करना होगा ।

इस धनराशि के ज़रिये राज्य के गरीब लोग अपनी बेटी की शादी अच्छे से कर पाएंगे ।

कन्यादान का फॉर्म कैसे भरा जाता है?

सारांश : मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का फॉर्म भरने के लिए आपको सरकार की वेबसाइट mpvivahportal.nic.in को ओपन करना होगा इसके बाद application form के विकल्प को चुने फिर फॉर्म खुलेगा जिसमे सभी जानकारी को भरकर submit बटन को सेलेक्ट करे इसके बाद login करना होगा इस प्रकार आप मुख्यमंत्री कन्यादान योजना का फॉर्म भर सकते है।

कन्यादान योजना का लाभ कैसे उठाएं?

इसे सुनेंएलआईसी कन्यादान पॉलिसी एक ऐसी स्कीम है जो कम आय वाले माता-पिता को बेटियों की शादी के लिए रकम जुटाने में मदद करती है. एलआईसी कन्यादान पॉलिसी के तहत एक निवेशक को रोजाना 130 रुपए (47,450 रुपए सालाना) जमा करने होते हैं और पॉलिसी अवधि के 3 वर्ष से कम समय के लिए प्रीमियम का भुगतान करना होता है.

मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना क्या है?

सरकार ने गरीब कन्याओं के लिए एक ऐसी योजना तैयार की है जिसमें गरीब परिवार की कन्याओं के विवाह में कोई परेशानी नहीं आयेंगी। मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना के तहत मिलने वाली सहयता राशि को 51 हजार रूपये से बढ़ा कर अब 71 हजार रूपये कर दिया गया है।

शादी अनुदान का पैसा कितने दिन में मिलता है?

इसे सुनेंइस योजना हेतु वृद्धावस्था, विकलांग, विधवा लाभार्थी आय प्रमाण पत्र दर्ज करना आवश्यक नहीं है , इस योजना में आवेदन के लिए लाभार्थी अपना रजिस्ट्रेशन नंबर भर सकते हैं । 2. विवाह अनुदान हेतु आवेदन शादी के दिनांक से 90 दिन पहले ही स्वीकार की जाएगी , या शादी के 90 दिन बाद तक स्वीकार किया जाएगा ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.